सहायता से समृद्धि

February 4, 2024

75 वर्षीय मेहर सिंह जी के 27 वर्षीय बेटे की दो महीने पहले दुबई में एक दुर्घटना में मृत्यु हो गई। अब उनके परिवार में कोई दूसरा कमाने वाला नहीं है। उनकी विधवा बेटी भी उन पर निर्भर है। आर्थिक संकट से गुजर रहे परिवार के पास रोजी रोटी कमाने का कोई साधन नहीं है। इस कठिन समय में उन्हें प्रमोद राघव द्वारा हरिद्वार में किये जा रहे सामाजिक कार्यों के बारे में पता चला और उनसे संपर्क किया। श्री राघव जी ने टीम को निर्देशित कर उनके गांव में ही उनकी किरयाना की एक दुकान शुरू करवाई। इस मदद से बुजर्ग दम्पति को ससम्मान रोटी कमाने का जरिया मिला जिसकी पुरे गांव निवासियों ने सरहाना की।

You May Also Like…

निःशुल्क कपडे वितरण

निःशुल्क कपडे वितरण

निःस्वार्थ कदम ने गुरुग्राम की विभिन्न सोसायटियों में 20 दान पेटियां रखी हैं, और निवासियों से पुराना एवं अनुपयोगी...

हम सभी जानते हैं कि हिन्दू नववर्ष की महत्ता क्या होती है। यह एक नया आरंभ है, एक नया संदेश है।

हम सभी जानते हैं कि हिन्दू नववर्ष की महत्ता क्या होती है। यह एक नया आरंभ है, एक नया संदेश है।

आज हमने इस पुण्य अवसर पर एक नेकी की नई पहल के तहत अपने आसपास के साथियों को इस महत्वपूर्ण पर्व के महत्व को सांझा किया व...